MS Dhoni को भी आता है गुस्सा , कप्तान कूल ने खुद किया है खुलासा

महेंद्र सिंह धोनी की गिनती दुनिया के महानतम कप्तानों में की जाती है और उनकी कप्तानी की खासियत ये रही है कि वह मैदान पर हमेशा शांत रहते हैं.

भारतीय टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी को कैप्टन कूल नाम से जाना जाता है. वह इसलिए क्योंकि धोनी मैदान पर विषम से विषम परिस्थितियों में भी घबराते नहीं थे और शांत रहते थे. ऐसा कहा जाता है की धोनी को गुस्सा नही आता वह शांत रहते है हर सिचुएशन मई , और काफी बेहतर खेल दिखाते है , शांत रह के आचे अच फैसला लेने मई वह माहिर है. और इस बात पे उनकी काबिलियत साबित होती है. वह अपने ऊपर दबाव नहीं लेते थे. हर बार उन्हें उन्हें मैदान पर शांत देखा है , कभी भी वह कुछ कहते नही है, कितना भी सीरियस सिचुएशन हो या काफी गरम मैच हो , चाहे वह इंडिया वेर्सुस पाकिस्तान के खिलाफ ही क्यों न हो , वह इस सिचुएशन मई भी गुस्सा नही करते है, बहुत कम बार ऐसा हुआ है जब मैदान पर धोनी को गुस्से में देखा गया हो. हर किसी को लगता था कि धोनी ऐसा कैसा कर लेते हैं , यह एक मिस्अट्बरी ही है , पर ऐसा करने मई उनकी मनोदशा क्या होगी , की वह इतने गुस्से वाले सिचुएशन मई भी शांत रहते है , पर ऐसा होता है , और हर बार होता है की वह शनत रहते है , उन्हें शांत देखा गया है , मई कितना भी कुछ कर लू परिष्ठ्ती नही बदलने वाली है , ऐसा वह कहते है. खुद धोनी ने इसका राज खोला है और बताया कै कि वह मैदान पर कभी गुस्सा क्यों नहीं होते थे.

धोनी ने कहा है उन्हें भी हर किसी की तरह मैदान पर गुस्सा आता है, पर वह किसी भी सिचुएशन मई सिंपल और नार्लेमल रहते है , किसी प्किरकार का कोई फेस रिएक्नशन नही देते है , वह बिलकुल नार्मल रह के खेलते है. वह अपनी भावनाओं को काबू में रखते हैं. धोनी की कप्तानी में ही भारत ने टी20 विश्व कप का पहला संस्करण 2007 में जीता था. इसके बाद धोनी की कप्तानी में ही भारत ने 2011 विश्व कप जीता था. इस विश्व कप के फाइनल में धोनी ने दबाव वाली स्थिति में से टीम को बाहर निकाला था और नाबाद रहते हुए टीम को जीत दिलाई थी.

धोनी ने यह बात खुद बताई थी

धोनी ने कहा कि उन्हें भी गुस्सा आता है लेकिन वह अपनी भावनाओं पर काबू रखते हैं. धोनी ने लिवफास्ट पर ऑडियंस से पूछा, “आपमें से किस किस को लगता है कि आपका बॉस शांत है.” इस सवाल पर कुछ हाथ ऊपर उठे. फिर धोनी ने पूछा, “या तो ये अपने अंक बनाना चाहते हैं या फिर ये लोग खुद बॉस हैं.”

इसके बाद धोनी ने कहा की ” अगर मई इमानदारी से कहू तोह मैदान पर होते है , तोह कोई गलती नही करना चाहते है , और इसलिए न कात्च चोदना चाहते है और न ही मिस्फ़िएल्दिन्ग करना चाहते है और न किसी प्रकार की गल्क्ति करना है , यह मैच तोह स्टेडियम मई 40000 लोग पहले से देख रहे है और करोड़ लोग टीवी पर देख रहे है तोह मेरे भी गुस्सा करने से बात ख़राब होगी ,, तोह इस से अच मई वह गलती पता लगाने की कोशिश करता हु .

Leave a Comment